रैन-दिवस गुरु चरण आराधन (रैणि दिनसु गुर चरन अराधी)

एक दिन बाबा नंद सिंह जी महाराज ने निम्नलिखित पवित्रा घटना का उल्लेख किया-

एक जंगल में वृक्ष के नीचे एक श्रद्धालु सिख भाई गोइन्दा (कोठाजी) समाधि में लीन था। भक्ति में लीन वह दिन, महीनों और वर्षों की गिनती तक भूल चुका था। यहाँ तक कि उसे अपने-आप की भी सुध नहीं थी। अपने प्रिय सतगुरु के प्रेम में मस्त वह गुरु-चेतना में पूरी तरह लीन था। सतगुरु के दर्शन पाने की उसकी प्रबल इच्छा और व्याकुलता इस सीमा तक पहुँच गई कि परमप्रिय, परमदयालु व अन्तर्यामी सतगुरु अपने-आप को अब और रोक नहीं सके। घोड़े पर सवार होकर श्री गुरु हरगोबिन्द साहिब अपने कई सिखों के साथ उस पवित्रा स्थान की ओर तेज़ी से चल पड़ते हैं, जहाँ उनका प्यारा सिख कई वर्षों से ईश्वर-स्वरूप छठे गुरु नानक जी के दर्शनों की एक झलक पाने के लिए आतुर था। श्री गुरु हरगोबिन्द साहिब अपने प्रिय भक्त को आदेश देते हैं कि प्रिय दर्शनों की जिस प्रबल इच्छा के पूरा होने की प्रतीक्षा करते हुए उन्होंने भक्ति में लीन रह कर अनेक वर्ष साधना की है, अब वह इस को संतुष्ट करें, अपनी इच्छा को पूरा होते हुए देखें। श्री सतगुरु के आशीर्वाद से अंधे गोइन्दा को नेत्रा-ज्योति मिल गयी। दीर्घकाल की भक्ति-समाधि से जाग कर गोइन्दा दौड़ पड़े और सीधे सतगुरु के पवित्रा चरणों में आ गिरे। तब उन्हें अपनी निर्मल भक्ति, तपस्या और प्रेम के उपहारस्वरूप एक दिव्य स्वरूप के दर्शन हुए।

परम दयालु गुरु जी ने अपने सच्चे भक्त को इच्छित वर मांग लेने को कहा। परन्तु भाई गोइन्दा जी मौन रहे। कृपालु गुरु जी ने पुनः मनवांछित वर मांगने के लिए कहा।

भाई गोइन्दा अति विनम्रता से उत्तर देते हैं-

हे दयानिधान! आपने कृपापूर्वक जिन दिव्य दर्शनों की एक झलक दिखाई है। उन दिव्य दर्शनो को सदा के लिए वैसे ही बना रहने दे। आपके अलौकिक स्वरूप को मैंने अपने मन मंदिर में उतार लिया है। आपके दिव्य चरण-कमलों की छवि को मैंने अपने नेत्रों में बसा लिया है। यह दिव्य स्वरूप किसी अन्य दर्शनों से मलिन न हो जाए इसलिए मुझे फिर से दृष्टिहीन कर दीजिऐ। यही नेत्रा आपके दिव्य दर्शनों के लिए खुले थे। इन्हें संसार के लिए बंद ही रहने दीजिए। मेरी ये सौभाग्यशाली आँखें और हृदय आप की अलौकिक सुन्दरता के प्रति आकृष्ट होने के बाद अब किसी भी सांसारिक वस्तु पर केन्द्रित नहीं हो सकते। मेरे साहिब, मैं विनती करता हूँ कि मुझे फिर से पूर्ण रूप से दृष्टिहीन कर दीजिऐ।

परमात्मा के दिव्य स्वरूप की झलक पा जाने का सौभाग्य प्राप्त होने के पश्चात भाई गोइन्दा जी अब पूरे अन्धेपन की याचना कर रहे है। मन-मन्दिर में अपने प्रियतम की छवि को स्थापित कर अब वह किसी और को देखना ही नहीं चाहते।

भाई गोइन्दा जी फिर से दृष्टिहीन हो गए तथा गुरु-कृपा से कृतज्ञ वह पुनः उस परम आनन्द में लीन होकर उनके दिव्य स्वरूप का रसपान करने लगे।

सतगुरु उनके शरीर के रोम-रोम में बस चुके थे। गुरु की दृष्टि और कृपा ने उन्हें परमानन्द से सराबोर कर दिया था। श्री हरगोबिन्द साहिब ने भाई गोइन्दा पर अपनी दया दृष्टि डालते हुए उन से कोई और मनवांछित फल मांग लेने को कहा।

दिव्य दर्शनों के बाद किसी और की ओर देखने का अर्थ था- पवित्रा दर्शनों की पवित्राता को कम कर के आंकना। उनका अगाध़ प्रेम केवल परमात्मा के लिए था, इसलिए वे सतगुरु से बार-बार दृष्टिहीनता का ही वरदान मांगते रहे।

ऐसे दिव्य आशिकों की आंखे सिर्फ़ ईश्वरीय दर्शनों के लिए ही होती हैं। प्यारे सतगुरु के पवित्रा दर्शन ही उनके जीवन-उद्देश्य की सच्ची प्राप्ति है।

सभु दिनसु रैणि देखउ गुरु अपुना
विचि अखी गुर पैर धराई।।
मैं अपने प्यारे गुरु के दर्शन दिन-रात करता रहूँ और गुरु के पवित्रा चरणों को ही अपनी आँखों में संजोये रखूँ।
रैणि दिनसु गुर चरन अराधी
दइआ करहु मेरे साई।।
नानक का जीउ पिंडु गुरु है
गुर मिलि त्रिपति अघाई।।

हे मेरे प्रभु!, मुझे ऐसा आशीर्वाद दीजिए कि मैं रात-दिन सतगुरु के पवित्रा-चरणों की भक्ति कर सकूं। गुरु तो श्री गुरुनानक का शरीर और आत्मा दोनो ही गुरु हैं और गुरु का मिलाप ही सम्पूर्ण परमानन्द की प्राप्ति है।

याद रखें कि जब भी आप गुरु नानक साहिब के पवित्रा स्वरूप के दर्शन करते हैं तो उस समय सच्चे-पातशाह भी आप ही को निहार रहे होते हैं। परम दयालु सच्चे-पातशाह की दया दृष्टि आप पर पड़ रही होती है और जब आप उनका मनन करते हैं, उनका ध्यान करते हैं तो वह परम दयालु, करूणा स्वरूप सतगुरु आपको अपनी पवित्रा गोद में ले लेता है।
-बाबा नरिन्दर सिंह जी
गुरु नानक पातशाह का पावन स्वरूप नेत्रों और मन को आनंद प्रदान करता है। उनका प्रकाशमय स्वरूप सब प्रकार से आनन्द और आह्लादों का प्रदाता है।

बाबा नंद सिंह जी महाराज ने फ़रमाया कि

सिक्खी की यह कितनी बड़ी लीला है, कितना बड़ा कमाल है कि जिन नेत्रों ने सतगुरु के दर्शन किए हैं, अब वे नेत्रा किसी और को देखना ही नहीं चाहते। वह नेत्रा अब इस दुनिया के वास्ते बंद हो जाना चाहते हैं।